रैयतवाड़ी व्यवस्था

0
50

रैयतवाड़ी व्यवस्था बंबई और मद्रास में शुरू हुई थी।

थॉमस मुनरो ने 1820 में बॉम्बे और मद्रास में रैयतवाड़ी की शुव्यवस्था की रुआत की। रैयतवाड़ी व्यवस्था के तहत सरकार और किसानों के बीच एक सीधा समझौता किया गया था।

रैयतवाड़ी व्यवस्था ब्रिटिश भारत में एक भू-राजस्व प्रणाली थी जिसे सर थॉमस मुनरो द्वारा पेश किया गया था, जिससे सरकार को राजस्व संग्रह के लिए सीधे कृषक (‘रैयत’) से समझौते की अनुमति मिली और किसानों को खेती के लिए नई भूमि देने या अधिग्रहण करने की स्वतंत्रता दी गई।

रैयतवाड़ी व्यवस्था बीच में कहीं और स्थिति में परिवर्तन |

• यह प्रणाली लगभग 5 वर्षों से चल रही थी और इसमें मुगलों की राजस्व प्रणाली की कई विशेषताएं थीं।

• यह ब्रिटिश भारत के कुछ हिस्सों, कृषि भूमि के किसानों से राजस्व एकत्र करने के लिए इस्तेमाल जाने वाली तीन मुख्य प्रणालियों

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here